हसीन ने अदालत में बयान दर्ज कराया तो शमी से क्राइम ब्रांच ने की पूछताछ

नई दिल्‍ली : उधर कोलकाता की एक अदालत में पेश होकर मोहम्मद शमी पत्‍नी पत्नी हसीन जहां ने अदालत के सामने अपना गुप्त बयान दर्ज कराया तो दूसरी तरफ शमी के घर उत्‍तर प्रदेश के अमरोहा में सोमवार को कोलकाता क्राइम ब्रांच की टीम दोबारा पहुंची। उसने शमी के अलावा उसके रिश्‍तेदारों से भी पूछताछ की।

अलीपुर कोर्ट में कराया बयान दर्ज
शमी की पत्‍नी हसीन जहां ने कोलकाता के अलीपुर कोर्ट में जज के सामने धारा 164 के तहत अपना बयान दर्ज कराया है। हसीन जहां ने शमी व उनके परिजनों के खिलाफ प्रताड़ना, दुष्कर्म व जान से मारने की कोशिश आदि आरोपों से कोलकाता में एक एफआईआर दर्ज कराया था। उन्‍होंने इसी संबंध में मजिस्‍ट्रेट के सामने अपनी गवाही दी है। मामले की जांच कर रही पुलिस की टीम ने गत मंगलवार को अलीपुर कोर्ट में धारा 164 के तहत हसीन जहां का गुप्त बयान दर्ज करने की अर्जी लगाई थी, जिसकी न्यायाधीश ने अनुमति दे दी थी।

क्राइम ब्रांच दोबारा पहुंची शमी के घर
दूसरी तरफ मोहम्मद शमी के घर अमरोहा में सोमवार को कोलकाता क्राइम ब्रांच की टीम दोबारा पहुंची। शमी का घर सहसपुर अली नगर में स्थित है, जहां उनके रिश्तेदार व गांव की महिलाओं से पूछताछ की गई। रविवार को टीम ने शमी के रिश्तेदारों से पूछताछ की थी। कोलकाता क्राइम ब्रांच की टीम ने करीब शाम पांच बजे शमी के घर पहुंची और दो घंटे तक बंद कमरे में शमी से पूछताछ की। इसके बाद क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने शमी के रिश्तेदारों और आसपास के लोगों से भी पुलिस ने पूछताछ की। संभव है कि क्राइम ब्रांच की टीम कल भी पूछताछ करेगी।

मीडिया से भी शमी ने की बातचीत
पूछताछ खत्म होने के बाद शमी ने मीडिया से भी बातचीत की औश्र कहा कि वह और उनका परिवार जांच में पूरा सहयोग करेंगे। उन्‍होंने कहा कि उनकी पत्‍नी अभी तक एक भी आरोप सिद्ध नहीं कर पाई है और अब वह यह देखना चाहते हैं कि वह किस स्तर तक जा सकती हैं।

शमी ने कहा कि करियर बर्बाद करने के लिए रची गई साजिश
मोहम्‍मद शमी ने कहा कि उन्‍होंने इस मामले को 7-8 दिन तक हल करने की पूरी कोशिश की, लेकिन उनकी पत्‍नी ने खुलकर कहा कि वह समाधान नहीं चाहती। इसलिए अब मेरे पास कानूनी कदम उठाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है। उन्‍होंने यह भी कहा कि इस मसले का उनके क्रिकेट से कोई लेना देना नहीं है। यह साजिश उनके करियर को बर्बाद करने के लिए रची गई है। उन्‍होंने बीसीसीआई से एक बार फिर आग्रह किया कि अगर वह निर्दोष साबित होते हैं तो उन्‍हें प्रैक्टिस करने की इजाजत दी जाए, ताकि उनका खेल प्रभावित न हो।

Go to Source
Author:

Leave a Reply